Rape and Murder Case

West Bengal Nadia Rape and Murder Case Updates: पश्चिम बंगाल के नदिया में CBI ने बलात्कार और हत्या के आरोपियों पर कसा शिकंजा पहले के बाद दूसरा आरोपी भी न्यायिक हिरासत में..

West Bengal Nadia Rape and Murder Case Updates: पश्चिम बंगाल के नदिया बलात्कार और हत्या मामले में CBI को मिली सफलता, दूसरा आरोपी भी गिरफ्तार, 12 दिनों की न्यायिक हिरासत, पहले आरोपी के पिता का संबंध TMC से..

पश्चिम बंगाल(West Bengal) में बिगड़ती कानून व्यवस्था के बीच CBI की सक्रियता बढ़ गई है. ताजा मामला नदिया में नाबालिग के साथ हुए सामूहिक बलात्कार और हत्या( Gang Rape And Murder Case) के मामले में दूसरे आरोपी की गिरफ्तारी से संबंधित है.

इस घटना के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी पहले ही हो चुकी है. जिसे की स्थानीय पुलिस द्वारा अंजाम दिया गया था. मुख्य आरोपी का नाम बृजगोपाल गायली है जो कि तृणमूल कांग्रेस(TMC) नेता समरेंद्र गायली का पुत्र है.

जिस दूसरे आरोपी रंजीत मलिक को सीबीआई(CBI) ने गिरफ्तार किया है उसकी यह दूसरी बार गिरफ्तारी हुई है. इससे पहले रंजीत मलिक फरार हो गया था. रंजीत मलिक को अदालत ने 12 दिन की न्यायिक हिरासत(Judicial Custody) में भेज दिया है.

इस गिरफ्तारी के बाद इस मामले में कई अहम खुलासे होने की संभावना है. जिससे कि ममता बनर्जी(Mamta Banerjee) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. क्योंकि इस मामले में तृणमूल कांग्रेस(TMC) नेता के बेटे को मुख्य आरोपी बनाया गया है.

एक तरफ जहां बंगाल में BJP सहित सभी विपक्षी पार्टियां कानून व्यवस्था( Law & Order) और सरकारी स्तर पर भ्रष्टाचार को लेकर ममता बनर्जी की सरकार पर हमलावर है तो वहीं दूसरी तरफ बंगाल में संपन्न हुए उपचुनाव(Bypolls) में टीएमसी(TMC) ने विरोधियों को धूल चटा दी.

बिहार(Bihar) से अपनी सीट गवा चुके बिहारी बाबू(Bihari Babu) यानी शत्रुघ्न सिन्हा(Shatrughan Sinha) ने कांग्रेस छोड़ तृणमूल कांग्रेस का दामन थामा था और दामन थामने के साथ ही उन्हें तृणमूल कांग्रेस ने आसनसोल संसदीय क्षेत्र से अपना उम्मीदवार घोषित किया.

बीजेपी द्वारा बाहरी का मुद्दा उठाए जाने के बाद भी आसनसोल की जनता ने शत्रुघ्न सिन्हा पर भरोसा जताया और उन्हें रिकॉर्ड वोटों से जीत दिलवाई. शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी की प्रत्याशी को ढाई लाख से भी अधिक मतों से पराजित किया.

पहले टीएमसी से बीजेपी में गए और फिर बीजेपी को छोड़ टीएमसी में वापस आए पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने भी ममता का हाथ मजबूत किया और बालीगंज विधानसभा से विधायक चुने गए. बताते चलें कि बाबुल सुप्रियो आसनसोल से लोकसभा सांसद चुने गए थे लेकिन उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था.