The Bharat Bandhu

SOCIAL MEDIA पर जाने-माने TV एंकर एवं जर्नलिस्ट ने इतिहासकार पर रक्षाबंधन को लेकर गलत तथ्य पेश करने का आरोप लगाया

IMG 20210823 154728 e1630684118769 द भारत बंधु

SOCIAL MEDIA पर जाने-माने TV एंकर एवं जर्नलिस्ट DEEPAK CHOURASIYA ने जाने-माने इतिहासकार इरफान हबीबी पर रक्षाबंधन को लेकर गलत तथ्य पेश करने का आरोप लगाया है

SOCIAL MEDIA पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहता है और कभी-कभी कुछ टिप्पणियों से आपसी सौहार्द्र और सामाजिक समरसता को भी नुकसान पहुंचता है. ताजा मामला रक्षाबंधन को लेकर जाने-माने इतिहासकार इरफान हबीबी द्वारा दिए गए कुछ उदाहरणों पर जाने माने पत्रकार और न्यूज नेशन टीवी के एंकर दीपक चौरसिया द्वारा गहरी आपत्ति जताए जाने का है.
क्या है मामला
इतिहासकार इरफान हबीबी ने कहा था कि मुगल काल में भी रक्षाबंधन का त्यौहार इसी हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता था और अकबर खुद राखी भी बंधवाते थे, इस त्यौहार के दिन अकबर की व्यस्तता इतनी अधिक होती थी की अकबर का सारा दिन राखी बनवाने में ही खत्म हो जाता था.

अगर इरफान हबीबी द्वारा कही गई बातों पर गौर करें तो यह बातें कहीं से भी बुरी नहीं हैं और खासकर कुछ प्रमुख त्योहारों पर आपसी भाईचारा को बढ़ावा देने के लिए ऐसे तथ्यों का हवाला हमेशा से दिया जाता रहा है. चाहे वह हुमायूं को राखी भेजे जाने की घटना हो या झांसी की रानी की मदद करने वाले शख्स की कहानी हो.

लेकिन इरफान हबीबी की बातों से इत्तफाक ना रखते हुए वरिष्ठ पत्रकार दीपक चौरसिया ने इसे एक प्रोपेगेंडा करार दिया है.

दीपक चौरसिया का कहना है अकबर द्वारा रक्षाबंधन पर राखी बनवाने वाली बात सिर्फ और सिर्फ प्रोपेगेंडा है.

दीपक चौरसिया द्वारा किया गया ट्वीट

दीपक चौरसिया के अनुसार इरफान हबीबी भारतीय इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे हैं और वह मुगलों के पैरोकार बन रहे हैं.

दीपक चौरसिया की बातों पर मिली जुली प्रतिक्रिया देखने को मिली है. अधिकतर लोगों ने दीपक चौरसिया की बातों का विरोध ही किया है.

यह भी पढ़ें…

AFGANISTAN CRISIS: अफगानिस्तान से अमेरिका(AMERICA) का यूं चुपचाप निकल जाना और तालिबान के लिए रुस ( RUSSIA) की नरमी के क्या हैं मायने, हर बार ऐसा क्यों होता है कि मानवीय संवेदनाओं पर राजनीतिक महत्वकांक्षा हावी हो जाती है

 

 

देश