NDTV Kamal Khan RIP

NDTV Kamal Khan RIP: एनडीटीवी के पत्रकार कमाल खान की 61 वर्ष की उम्र में हृदय गति रुकने से मौत

NDTV Kamal Khan RIP: एनडीटीवी के मशहूर पत्रकार कमाल खान(Kamal Khan) की हृदय गति रुकने से लखनऊ में मौत

एनडीटीवी के पत्रकार कमाल खान(Kamal Khan) की आज लखनऊ में हृदय गति रुकने से मौत हो गई. कमाल खान एक बेहतरीन पत्रकार के साथ ही खबरों को बेहतरीन तरीके से प्रस्तुत करने के लिए भी जाने जाते थे.

कमाल खान  ट्विटर पर बहुत ही सक्रिय रहते थे. उनका आखिरी ट्वीट जो कि उन्होंने वसीम रिजवी जिन्होंने कि अब हिंदू धर्म कबूल कर लिया है और अपना नाम बदलकर जितेंद्र  नारायण त्यागी कर लिया है उनकी गिरफ्तारी के संबंध में किया था.देखिए उन्होंने अपने अंतिम ट्वीट में क्या कहा है

वहीं कल कमाल खान ने कांग्रेस द्वारा जारी कैंडिडेट की लिस्ट के बारे में एनडीटीवी के प्राइम टाइम के लिए रिपोर्टिंग भी की थी. देखिए उन्होंने क्या कहा

कमाल खान के निधन से एनडीटीवी के साथ-साथ भारतीय दर्शकों ने भी एक बेहतरीन पत्रकार को हमेशा के लिए खो दिया है

कमाल खान की एक खासियत थी कि वह किसी भी मुद्दे को बेहतरीन ढंग से पेश करते थे. वह जमीन से जुड़े पत्रकार थे .उनकी पत्रकारिता में इसकी साफ झलक मिलती थी.

चाहे मुद्दा राजनीतिक हो सामाजिक हो या आर्थिक  हर मुद्दे पर बेहतरीन पकड़ रखने वाले पत्रकार कमाल खान के लिए खबर को समझने और जानने वाले प्रत्येक संवेदनशील आदमी की आंखें नम है.

सबसे बड़ी बात यह है कि अपनी मौत के कुछ घंटे पहले तक वह रिपोर्टिंग कर रहे थे. उन्होंने रात में भी रिपोर्टिंग की है लेकिन सुबह में अचानक से उन्हें बेचैनी महसूस हुई और तबियत बिगड़ी और फिर हार्टअटैक से उनकी मौत हो गई.

कमाल खान लखनऊ के बटलर पैलेस कॉलोनी में रहते थे. उनकी पत्नी रुचि भी पत्रकारिता से ही जुड़ी हुई है और वह भी लखनऊ में है एक न्यूज़ चैनल की ब्यूरो हेड हैं.

कल जब एनडी टीवी पर 7:00 से 9:00 बजे का प्राइम टाइम चल रहा था तो उस प्राइम टाइम में भी पत्रकार कमाल खान ने रिपोर्टिंग की थी.

जाने-माने पत्रकार और बेहतरीन शख्सियत के धनी कमाल खान के निधन पर समाज के हर वर्ग से शोक संवेदना व्यक्त की जा रही है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कमाल खान के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त किया है.

जिस प्रकार से एनडीटीवी पर रवीश कुमार की पत्रकारिता एक अलग अंदाज के लिए जानी जाती है उसी तरह से कमाल खान की पत्रकारिता भी एक खास अंदाज के लिए कभी नहीं भूली जाएगी.