Navjot Singh Sidhu Files Curative Petition

Navjot Singh Sidhu Files Curative Petition On Medical Ground: नवजोत सिंह सिद्धू को सरेंडर करने के लिए चाहिए 1 हफ्ते का वक्त, Curative Petition लेकर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट की शरण में..

Navjot Singh Sidhu Files Curative Petition On Medical Ground: नवजोत सिंह सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई गुहार, खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर सरेंडर करने के लिए मांगा एक हफ्ते का वक्त, अभिषेक मनु सिंघवी ने क्यूरेटिव पिटिशन की दायर..

नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने सुप्रीम कोर्ट में  Curative Petition दायर कर सरेंडर करने के लिए 1 हफ्ते का वक्त मांगा है. नवजोत सिंह सिद्धू ने SC से कहा है कि उनका स्वास्थ्य खराब है इसलिए उन्हें सरेंडर करने के लिए 1 हफ्ते का वक्त चाहिए.

मालूम हो कि नवजोत सिंह सिद्धू को कल ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा 34 साल पुराने Road Rage मामले में 1 साल की सजा सुनाई है. सिद्धू ने कल भी सजा सुनाने वाले जज के सामने क्यूरेटिव पिटीशन दायर की थी लेकिन उन्होंने इसे खारिज कर दिया था.

आज नवजोत सिंह सिद्धू के वकील और सुप्रीम कोर्ट के वरीय अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने एक बार फिर से क्यूरेटिव पिटिशन दायर की है लेकिन सुप्रीम कोर्ट के जज ने उन्हें इस संबंध में चीफ जस्टिस के पास जाने की सलाह दी. अब देखना यह है कि सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश का इस पर क्या फैसला होता है.

सिद्धू द्वारा खराब स्वास्थ्य का हवाला देने के बाद सियासत भी गरमा गई है बीजेपी के नेताओं ने सिद्धू पर तंज कसते हुए कहा कल तो हाथी पर चढ़कर प्रदर्शन कर रहे थे और आज तबियत खराब होने का बहाना बना रहे हैं. बताते चलें कि कल से दो पंजाब में केंद्र सरकार के खिलाफ हाथी  पर चढ़कर प्रदर्शन कर रहे थे. उनका प्रदर्शन बेतहाशा बढ़ी हुई महंगाई के विरोध में था.

देखिए प्रदर्शन का विडियो..

कई लोग यह सोचते होंगे कि आखिर क्यूरेटिव पिटिशन होता क्या है तो बता दें कि अगर कोई व्यक्ति जिसे सजा हो गई हो और वह इसमें किसी भी प्रकार की राहत चाहता हो तो उसके लिए क्यूरेटिव पिटिशन ही एक अंतिम जरया होता है. जिससे कि वह राहत पा सकता है.

इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 का प्रयोग करता है और याचिकाकर्ता को राहत प्रदान करता है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा अभी दो ताजा मामलों में भी इसी अनुच्छेद का प्रयोग किया गया था. एक मामले में राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी को बरी किया गया तो वहीं दूसरे मामले में उत्तर प्रदेश के चर्चित नेता आजम खान को अंतरिम जमानत दी.

नवजोत सिंह सिद्धू अभी इस वक्त अपने पटियाला वाले घर में मौजूद हैं. अब उनके घर पर पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं का आना भी शुरू हो गया है, जिसमें कई बड़े चेहरे शामिल हैंं. अगर सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत नहीं मिलती है तो उन्हें आज ही किसी भी हालत में जेल जाना होगा.