Lakhimpur kheri

लखीमपुर खीरी(Lakhimpur kheri) हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा(Ashis Mishra) को जमानत

लखीमपुर खीरी(Lakhimpur kheri) हिंसा के मुख्य आरोपी मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा(Ashish Mishra) को हाई कोर्ट से जमानत किसानों को अपनी गाड़ी से कुचलने का है आरोप

आज लखीमपुर खीरी(Lakhimpur Kheri) हिंसा मामले में एक बड़ी खबर सामने आई है. इस हिंसा में शामिल केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी(Ajay Mishra Teni) के बेटे आशीष मिश्रा(Ashish Mishra) को हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है.

मालूम हो कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को भारी राजनीतिक दबाव के बीच 9 अक्टूबर 2021 को गिरफ्तार किया गया था.

मंत्री पुत्र पर यह आरोप है कि 3 अक्टूबर 2021 को विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को जीप से उन्होंने कुचल दिया था. बताते चलें कि इस घटना में कुल 8 लोगों की मौत हुई थी जिसमें से 4 किसान थे जबकि दो भाजपा कार्यकर्ता  और एक पत्रकार शामिल थे.

लखीमपुर खीरी(Lakhimpur Kheri) की हिंसा की घटना होने के बाद किसानों ने उग्र प्रदर्शन किया था और आशीष मिश्रा(Ashish Mishra) के पिता केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा(Ajay Mishra Teni) के इस्तीफे की मांग भी की थी.

किसान मोर्चा और अन्य किसान संगठनों द्वारा बार-बार अजय मिश्र टेनी के इस्तीफे की मांग करने के बाद भी केंद्र सरकार ने अजय मिश्रा को उनके पद पर बरकरार रखा.

यह बताना जरूरी है कि अजय मिश्रा  ब्राह्मण जाति से आते हैं और उत्तर प्रदेश में अभी चुनाव चल रहे हैं जिसमें ब्राह्मण वोटरों की भूमिका महत्वपूर्ण है. लोगों का कहना है कि केंद्र सरकार ने ब्राह्मण वोटो को देखते हुए अजय मिश्रा टेनी पर कोई सख्त कार्रवाई नहीं की.

अजय मिश्रा टेनी को लेकर केंद्र सरकार हमेशा से नरम बनी रही यहां तक कि अजय मिश्रा टेनी ने कई बार भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ मंच भी साझा किया.

अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की जमानत एक ऐसे वक्त हुई है जब यूपी में सियासी पारा गरम है क्योंकि आज प्रथम चरण का मतदान हो रहा है.

प्रथम चरण में पश्चिमी यूपी के ज्यादातर विधानसभा क्षेत्र हैं और वह सभी विधानसभा क्षेत्र किसान आंदोलन के दौरान काफी चर्चित रहे थे.