Kargil Vijay Divas

Kargil Vijay Divas: देश मना रहा है कारगिल विजय दिवस की 23वीं वर्षगांठ 1999 के कारगिल युद्ध में 500 से भी अधिक भारतीय सैनिक हुए थे शहीद

Kargil Vijay Divas 2022: कारगिल युद्ध(Kargil War) के शहीदों को देश कर रहा है नमन, 60 दिनों तक चले इस युद्ध में 500 से भी अधिक भारतीय सैनिकों ने अपने प्राण न्योछावर कर की थी भारत माता की रक्षा..कैप्टन विक्रम बत्रा लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे सहित चार लोगों को दिया गया था परमवीर चक्र

आज संपूर्ण भारत कारगिल युद्ध(Kargil Vijay Divas)) में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की याद में मना रहा है कारगिल युद्ध(Kargil War) की 23 वीं वर्षगांठ. आज के ही दिन साल 1999 में भारत के वीर जवानों ने पाकिस्तान के दांत खट्टे कर दिए थे और उन्हें हराकर 1600 फीट की ऊंचाई पर भारतीय तिरंगा फहराया था.

पाकिस्तान से हुए इस युद्ध में भारत ने अपने कई वीर सपूतों को खो दिया था. लेकिन इन सपूतों ने आखरी दम तक भारत माता की रक्षा की थी. इनमें से कैप्टन विक्रम बत्रा, लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे, राइफलमैन संजय कुमार और ग्रेनेडियर योगेंद्र सिंह को उनकी साहस और वीरता के लिए सेना के सर्वोच्च मेडल परमवीर चक्र(Param vir Chakra Kargil War) से नवाजा गया था.

कारगिल युद्ध की शुरुआत (Starting Of  Kargil War 1999) साल 1999 में मई के महीने हुई थी और यह युद्ध लगभग 60 दिनों तक चला था. जिसमें 527 भारतीय सैनिकों की मौत हुई थी. वहीं तेरह सौ से भी अधिक भारतीय सैनिक घायल हुए थे. कारगिल का युद्ध बेहद ही मुश्किल परिस्थितियों में लड़ा गया था.इस ऑपरेशन  को ऑपरेशन विजय (Operation Vijay) नाम दिया गया था. भारत ने इस ऑपरेशन को सफल बनाने के लिए 2 लाख जवानों को भेजा था.

करगील युद्ध(Kargil War) के दौरान जिस स्थान पर पाकिस्तानी सैनिकों ने डेरा जमाया था उस स्थान की ऊंचाई 16000 फीट थी. विपरीत परिस्थितियों में भी भारतीय सैनिकों ने गजब के साहस का परिचय दिया और 1971 के युद्ध में में जिस प्रकार से पाकिस्तान को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था, ठीक उसी तरह इस युद्ध(Kargil Vijay Divas) में भी पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी.