CDS Bipin Rawat

CDS Bipin Rawat RIP: सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत(Madhulika Rawat) का अंतिम संस्कार 10 दिसंबर को दिल्ली छावनी में होगा संपन्न

CDS Bipin Rawat RIP: चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत(Madhulika Rawat) की 10 दिसंबर को अंतिम विदाई. दिल्ली छावनी में किया जाएगा अंतिम संस्कार. शुक्रवार को सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक लोग कर सकेंगे उनके अंतिम दर्शन.

CDS Bipin Rawat and his wife Madhulika Rawat
CDS Bipin Rawat and Madhulika Rawat

आज एयर फोर्स के mi-17 हेलीकॉप्टर तमिलनाडु के नीलगिरी पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे  में साल 2019 में भारत के पहले CDS का पद संभालने वाले जनरल बिपिन रावत उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की असामयिक मौत हो गई.

MI-17: प्रतिकात्मक तस्वीर
MI-17: प्रतिकात्मक तस्वीर

इस हादसे में मात्र ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ही ऐसे शख्स हैं जो जीवित बचे हैं. लेकिन उनकी स्थिति भी गंभीर बनी हुई है. उनका इलाज वेलिंग्टन के हॉस्पिटल में चल रहा है.

gruop captain Varun Singh
Group captain Varun Singh

आज हेलीकॉप्टर हादसे से पूरा देश शोकाकुल है एक साथ  13 जांबाज सेना अधिकारियों का असामयिक निधन  बेहद ही दुखद घटना है.

PM मोदी समेत कई मंत्रियों और पक्ष विपक्ष के नेताओं ने इस दुर्घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है. कांग्रेस की वर्तमान अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दुख की इस घड़ी में यह निर्णय लिया है कि वह अपना जन्मदिन नहीं मनाएंगी.

इस हादसे के कारण का अभी तक कुछ स्पष्ट जानकारी नहीं मिली है. लेकिन खराब दृश्यता और घना जंगल इस दुर्घटना के कारणों में एक हो सकता है.

सीडीएस बिपिन रावत की छवि एक स्वच्छ ईमानदार सेना अधिकारी की रही है.CDS विपिन रावत सेना में भ्रष्टाचार के मुद्दों पर हमेशा मुखर रहे थे.

वहीं उनकी पत्नी मधुलिका रावत(Madhulika Rawat) भी सामाजिक गतिविधियों में बढ़ चढ़कर भाग लेती थी. मधुलिका रावत आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन की प्रेसिडेंट थी.

मधुलिका रावत सैनिकों एवं पूर्व सैनिकों की पत्नियों और उनकी विधवाओं के अधिकारों के लिए हमेशा संघर्षशील रहती थी. बिपिन रावत और मधुलिका रावत की दो बेटियां हैं एक बेटी की शादी हो चुकी है जबकि एक बेटी अभी दिल्ली में उनके साथ ही रहती थी.

बिपिन रावत जहां उत्तराखंड के रहने वाले थे वहीं मधुलिका रावत मध्य प्रदेश से आती थी. उनके पिता एक राजनीतिक व्यक्ति हैं और दो बार विधायक भी रहे हैं.

इसे विडंबना कहें या फिर पति-पत्नी का जन्मों-जन्मों का साथ , बिपिन रावत और मधुलिका रावत जीवन भर तो साथ रहे ही लेकिन  मृत्यु के वक्त भी एक साथ रहे.