BPSC Paper Leak

BPSC Paper Leak Updates: बिहार में BPSC पेपर लीक मामले में उठ रहे हैं गंभीर सवाल आखिर सोशल मीडिया पर पेपर वायरल होने के बाद भी क्यों नहीं की गई परीक्षा रद्द..

BPSC Paper Leak Updates: बिहार(Bihar) में BPSC परीक्षा को रद्द कर दिया गया है लेकिन परीक्षा को रद्द करने में हुई देरी को लेकर अब उठ रहे हैं सवाल कि आखिर सोशल मीडिया पर पर्चे वायरल होने के तुरंत बाद क्यों नहीं रद्द की गई परीक्षा..

बिहार(Bihar) में आज आयोजित की गई बीपीएससी प्रारंभिक(BPSC PT Exam) परीक्षा को जांच समिति की रिपोर्ट के बाद रद्द करने का फैसला ले लिया गया है. जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट मात्र 3 घंटे में ही सौंप दी जबकि रिपोर्ट सौंपने के लिए 24 घंटे का समय दिया गया था.

जांच समिति की रिपोर्ट के बाद बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा लिया गया यह निर्णय स्वागत योग्य कदम है लेकिन इसके साथ ही उन छात्रों को अपनी भविष्य की भी चिंता सताए जा रही है जिन्होंने इस परीक्षा के लिए अथक प्रयास किए थे क्योंकि अब फिर से उन्हें प्रारंभिक परीक्षा(BPSC PT Exam) की तैयारी करनी होगी.

छात्रों ने सरकार और परीक्षा को आयोजित कराने वाली एजेंसी पर बेहद ही गंभीर सवाल उठाए हैं. छात्रों का कहना है कि आखिर जो सरकार हर बार सुशासन का दावा करती है फिर आखिर कैसे इतनी महत्वपूर्ण परीक्षा का पेपर सोशल मीडिया पर वायरल(BPSC Paper Viral On Social Media) हो जाता है और तो और सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद भी छात्रों को हंगामा करना पड़ता है तब जाकर सरकार की नींद खुलती है.

छात्रों ने 67 वीं बीपीएससी परीक्षा पेपर लीक( 67th BPSC Exam Paper Leak) मामले को लेकर काफी हंगामा किया. छात्रों का कहना है कि परीक्षा शुरू होने से पहले ही परीक्षा का पेपर लीक हो गया था. छात्रों ने यह दावा किया है कि जब उन लोगों ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे पर्चे को परीक्षा में मिले पर्चे से मिलान किया तो उसमें सभी प्रश्न पत्र समान थे. बताते चलें कि सोशल मीडिया पर बीपीएससी परीक्षा का C सेट परीक्षा शुरू होने से पहले ही वायरल हो गया था, ऐसा छात्रों का आरोप है.

BPSC पेपर लीक मामले में बिहार लोक सेवा आयोग ने बिहार के DGP से यह मांग की है कि पेपर लीक मामले की जांच साइबर सेल(Bihar Cyber Cell) द्वारा कराई जाए और जल्द से जल्द इस कांड के पीछे छिपे हुए लोगों को बेनकाब किया जाए.

वैसे तो पेपर लीक मामले में बिहार के बहुत सारे परीक्षा केंद्रों पर छात्रों ने हंगामा किया (बिहार के कुल 38 जिलों में बनाए गए थे परीक्षा केंद्र) लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा में आरा का BPSC परीक्षा केंद्र रहा. जहां पर छात्रों ने जमकर हंगामा किया. उसके बाद SP DM  को परीक्षा केंद्र पर पहुंचना पड़ा.

मालूम हो कि पेपर लीक(Paper Leak) को लेकर बिहार ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों की स्थिति भी बेहद ही खराब है एक दिन पहले ही हिमाचल प्रदेश में भी पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर भी लीक हो गया था. जिसके बाद परीक्षा को रद्द करना पड़ा.

इस प्रकार से देखा जाए तो पेपर लीक होने के बाद परीक्षा तो रद्द हो जाती है लेकिन छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. लेकिन कभी-कभी तो ऐसा भी देखा गया है कि पेपर लीक होने के बावजूद सरकार परीक्षा को रद्द नहीं करती है और उसके बाद यह मामला सीधे कोर्ट तक चला जाता है. जिसके बाद छात्रों का और भी ज्यादा समय बर्बाद होता है.

जिस प्रकार से लगातार पेपर लीक होने के मामले सामने आ रहे हैं उससे यह साफ जाहिर हो रहा है कि कहीं न कहीं शासन प्रशासन स्तर पर मामले की गंभीरता को नहीं समझा जा रहा. अगर सरकारें सचमुच छात्रों के भविष्य को लेकर बहुत ही गंभीर है तो उसे पेपर लीक मामले को लेकर सख्त से सख्त कदम उठाने चाहिए.

Subscribe The Bharat Bandhu For Latest Updates BPSC Paper Leak Case