BENGAL

BENGAL में TMC को सत्ता की चाबी तो मिल गई लेकिन अब MAMTA BANERJEE के CM बने रहने पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं शायद ममता बनर्जी को भी ऐसे अभूतपूर्व संकट का अंदाजा नहीं था

BENGAL में  2 सीटों पर उपचुनाव का टलना  TMC और  MAMTA BANERJEE के लिए अनहोनी की सूचना

बंगाल में 16 मई को 2 सीटों के लिए उपचुनाव होने वाले थे. कांग्रेस एवंं एक अन्य पार्टी के उम्मीदवार की मौत की वजह से यहां उपचुनाव होना था. लेकिन चुनाव आयोग ने कोविड-19 की परिस्थितियों को देखते हुए इस चुनाव को टाल दिया है. इन चुनावों के टलने से ममता बनर्जी के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो गई है.

इन चुनावों के टलने से खरदा की सीट पर कब मतदान कराए जाएंगे इसको लेकर TMC के साथ-साथ अन्य पार्टियों में चर्चा छिड़ गई है. खरदा सीट का चुनाव अन्य पार्टियों के लिए तो नहीं लेकिन टीएमसी और ममता बनर्जी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.

मालूम हो कि ममता बनर्जी चुनाव हार चुकी हैं उन्हें BJP के शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम से 1956 वोटों से पराजित किया था.

भारतीय संविधान के अनुसार ममता बनर्जी को 6 महीने के भीतर चुनाव जीतकर सदन की सदस्यता ग्रहण करनी होगी अन्यथा उन्हें मुख्यमंत्री पद से त्याग पत्र देना होगा.

यहां एक बात बताना जरूरी है कि विशेष परिस्थिति में  6 माह की अवधि को विस्तार भी दिया जा सकता है लेकिन इसके लिए चुनाव आयोग की अनुशंसा आवश्यक है. चुनाव आयोग को यह बताना होगा कि अभी हालात ऐसे नहीं है कि चुनाव संपन्न कराये जा सके.

वहीं जिन 2 सीटों पर उपचुनाव होने हैं वहां से ममता बनर्जी चुनाव नहीं लड़ सकती हैं.  वहां  उपचुनाव इसलिए कराए जा रहे हैं क्योंकि वहां दो उम्मीदवारों की मौत हो गई थी. ये दोनों ही उम्मीदवार अन्य पार्टियों से थे. इस कारण TMC के लिए किसी नए उम्मीदवार की घोषणा नहीं की जा सकती है.

अब ममता बनर्जी की पास दो ही रास्ते हैं या तो खरदा की सीट से उचुनाव में प्रत्याशी बनें या फिर अपने किसी जीते हुए विधायक को इस्तीफा दिलाकर वहां से चुनाव लड़ें.

मालूम हो कि खरदा से काजल सिन्हा चुनावी मैदान में थे जिनकी मौत corona से हो गई थी क्योंकि वहां चुनाव संपन्न हो चुके थे. इस वजह से वहां की काउंटिंग नहीं रोकी गई और काजल सिन्हा मरणोपरांत विजेता घोषित किये गए.

वैसे अभी 6 महीना का समय शेष है इस कारण अभी कुछ भी कहना उचित नहीं है. चुनाव आयोग एक संवैधानिक संस्था है और उसे अपनी कर्तव्यों और शक्तियों का भली भांति ज्ञान है.

इन सबके बीच कल यानी 5 मई को ममता बनर्जी तीसरी बार लगातार बंगाल की मुख्यमंत्री के रूप शपथ ग्रहण करेंगी. ममता बनर्जी ने पहले ही कहा है कि शपथ ग्रहण का समारोह बहुत ही सादगी भरा रहेगा.ममता बनर्जी ने चुनाव परिणामों की घोषणा के दिन ही यह बात कही थी कि अब चुनाव संपन्न हुए अब हमें corona से लड़ना है.

COVID-19 से हुयी मौत पर PM MODI के VARANASI से एक बेटी की गुहार कभी इनके पिता के पैर छूते थे प्रधानमंत्री

BENGAL ELECTION RESULT: BENGAL में अपनी सीट पर हार का सामना करने वाली TMC प्रमुख और वर्तमान CM MAMTA BANERJEE ने कई राज़ खोले, BJP और EC पर लगाये कई गंभीर आरोप

GURU TEGH BAHADUR के 400 वें प्रकाश पर्व पर PM MODI ने गुरुद्वारा शीश गंज में मत्था टेका, corona काल में प्रधानमंत्री के इस आचरण पर लोग उठा रहे हैं सवाल

COVID-19: कोरोना के इस बुरे दौर में जहां हर तरफ हताशा और निराशा का वातावरण है, इन सब से बाहर निकलने के प्रयास में एक “कविता”