Beating Retreat

Beating Retreat ऐ मेरे वतन के लोगों की धुन पर सबकी आंखें हुई नम

Beating Retreat के आखरी दिन ए मेरे वतन के लोगों की धुन को पहली बार बजाया गया, धुन सुन सबकी आंखें हुई नम

बीटिंग रिट्रीट का अंतिम दिन और इसी के साथ ही गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया. गणतंत्र दिवस पर Beating Retreat का इस बार का समारोह काफी कुछ बातों के लिए हमेशा याद रखा जाएगा. जिसमें सबसे यादगार है आज का दिन जब पहली बार ए मेरे वतन के लोगों की धुन को इस समारोह में शामिल किया गया.

मालूम हो कि भारत चीन युद्ध के बाद लता जी ने इस गीत को गाया था.यह गीत इतना लोकप्रिय हुआ कि जब भी कोई इस गीत को सुनता था तो उसकी आंखे भर आती थी.

Subhash Chandra Bose

बताते चलेंं कि बीते दिनों लता जी कोरोना की चपेट में आ गयी थी और अभी भी उनका इलाज चल रहा है.

इस बार के बीटिंग रिट्रीट में एक विवादित बात भी हुई जब पिछ्ले 50 साल से बज रहे महात्मा गांधी के प्यारे धुन को इस समारोह से हटा दिया गया.

इस बार की एक और घटना ने सबका ध्यान अपनी और खींचा था और वो घटना थी अमर जवान ज्योति का विलय वार मेमोरियल में होना.

इस प्र्कार देखा जाए तो इस बार का गणतंत दिवस समारोह कई रुप में ऐतिहासिक रहा जिसे हमेशा याद रखा जाएगा.