Madarsa

Action On Fake Madarsa in UP: उत्तर प्रदेश(UP) में फर्जी मदरसों पर सरकार सख्त, जांच के आदेश

Action On Fake Madarsa in UP: उत्तर प्रदेश सरकार का बड़ा फैसला, फर्जी मदरसों पर सख्ती, शिक्षकों और छात्रों का होगा भौतिक सत्यापन, किराए पर चल रहे मदरसों के किराए नामे(Rent Agreement) की भी होगी जांच, मदरसा आधुनिकीकरण योजना(Madarsa Adhunikikaran scheme) के तहत लिया फैसला..

उत्तर प्रदेश में फर्जी मदरसे(Fake Madarsa) को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार(Yogi Adityanath Government) ने अब सख्त रुख अपनाने का फैसला कर लिया है. सरकार को फर्जी मदरसों को लेकर ढेरों शिकायतें मिल रही थी जिसके बाद सरकार ने इसके लिए जांच कमेटी गठित कर दी है.

योगी आदित्यनाथ सरकार का यह  फैसला मदरसा आधुनिकीकरण योजना(Madarsa Adhunikikaran Scheme UP) के तहत लिया गया है. जांच के लिए बनाई गई कमेटी इस बात का पता लगाएगी कि जो मदरसे से चल रहे हैं वह वास्तविक रुप से कार्य कर रहे हैं या फिर सिर्फ कागजी हैं.

इस जांच पर मदरसा के शिक्षकों और छात्रों का भौतिक सत्यापन भी किया जाएगा. इसके साथ भवन जमीन और जहां यह किराए पर संचालित हो रहे हैं उसके किराए नामे की जांच भी की जाएगी. उत्तर प्रदेश सरकार ने जांच रिपोर्ट 15 मई तक सुपुर्द करने के निर्देश भी दे दिए हैं.

UP Madarsa

बताते चलें कि अभी कुछ दिन पहले ही योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों और कार्यालयों को सख्त निर्देश जारी करते हुए कहा था कि किसी भी ऑफिस में कोई भी फाइल किसी भी टेबल पर 3 दिन से अधिक नहीं रहना चाहिए.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) इन दिनों कानून व्यवस्था(Law And Order)को लेकर पिछले कार्य काल से भी कई गुना ज्यादा सख्त और सक्रिय दिख रहे हैं. अगर मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस बार योगी आदित्यनाथ को यूपी में दोबारा से सत्ता की चाबी मिलने में बेहतर कानून व्यवस्था का अहम योगदान था.

Rajasthan Alwar Temple Demolishing case updates: एक दूसरी बड़ी खबर राजस्थान से सामने आई है जहां अशोक गहलोत सरकार ने अलवर में 300 साल पुराने मंदिर को तोड़े जाने को लेकर एक बड़ा फैसला लेते हुए नगर पालिका के अध्यक्ष को पद से हटा दिया है. इस फैसले के बाद जहां सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है वहीं बीजेपी इसे असंवैधानिक करार दे रही है.