Delhi Fire

Delhi Fire 27 Death: दिल्ली मुंडका मेट्रो के पास CCTV फैक्ट्री में भीषण अग्निकांड अब तक 27 लोगों की मौत 150 लोग रेस्क्यू, राहत बचाव कार्य जारी

Delhi Fire 27 Death: दिल्ली मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास CCTV फैक्ट्री में लगी आग 27 शव बरामद 10 लोगों की हालत नाजुक, फैक्ट्री को नियमों को ताक पर रखकर चलाया जा रहा था, अंदर-बाहर जाने का एक ही रास्ता..

दिल्ली(Delhi Fire) में मुंडका मेट्रो स्टेशन(Mundaka Metro) के पास स्थित एक बिल्डिंग में चलाए जा रहे CCTV फैक्ट्री में भीषण आग(Delhi Fire) लगने से एक बड़ा हादसा हो गया. इस हादसे में अब तक 27 लोगों के मरने की पुष्टि हो चुकी है. डेढ़ सौ से अधिक लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला जा चुका है लेकिन अभी भी 30 से 40 लोगों के इमारत में फंसे होने की आशंका जताई जा रही है

यह आग तीन मंजिला इमारत की पहली मंजिल पर स्थित CCTV फैक्ट्री में लगी थी. अभी तक आग लगने के स्पष्ट कारण का पता नहीं चला है लेकिन प्रथम दृष्टया यह शॉर्ट सर्किट से जुड़ा मामला हो सकता है क्योंकि दिल्ली में अभी भीषण गर्मी पड़ रही है और इस कारण लोड ज्यदा है.

सबसे अच्छी बात यह है कि बिल्डिंग में लगी आग पर करीब 7 घंटे मशक्कत करने के बाद फायर ब्रिगेड कर्मियों ने काबू पा लिया है लेकिन अभी भी राहत बचाव कार्य जारी है क्योंकि अभी भी कुछ लोगों के अंदर फंसे होने की आशंका जताई जा रही है. इस अग्निकांड में राहत बचाव कार्य करने में बहुत ही अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ा इसके पीछे एक मुख्य वजह यह भी रही कि इस फैक्ट्री में अंदर और बाहर जाने के लिए एक ही रास्ता है.

घायल लोगों को नजदीकी संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है वहां अभी भी 10 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है. दिल्ली फायर ब्रिगेड के हेड अतुल गर्ग ने मीडिया से यह बताया कि आग पर काबू पा लिया गया है लेकिन अभी भी लोगों को वहां से बाहर निकालने का सिलसिला जारी है.

अतुल गर्ग ने बतलाया कि हमारे 100 से अधिक कर्मचारी इस राहत बचाव कार्य में लगे हुए हैं तथा दो दर्जन से भी अधिक फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर मौजूद है. इस भीषण अग्निकांड के बाद एक बार फिर से यह सवाल उठने लगे हैं कि आखिर इन कंपनियों को चलाने के लिए अनुमति कैसे दी जाती है.

क्योंकि जब भी कोई भी बड़ा हादसा होता है तो उसमें जो सबसे बड़ी त्रुटि होती है वह यह कि जहां फैक्ट्री चलाई जा रही होती है वहां नियमों को ताक पर रख दिया जाता है. इस अग्निकांड(Delhi Fire) को देखने के बाद दिल्ली में उपहार सिनेमा में हुए भीषण अग्निकांड की याद ताजा हो गई.