Child Vaccination

Child Vaccination में बड़े पैमाने पर अनियमितता के संकेत

क्या Child Vaccination में हो रही है बड़े पैमाने पर अनियमितता, Vaccine बनाने वाली कंपनी ने Covaxin को लेकर कही बड़ी बात

भारत में 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष के बच्चों के टीकाकरण की शुरुआत हो चुकी है और एक करोड़ से भी अधिक बच्चों को vaccine की पहली खुराक दी जा चुकी है.

लेकिन इन सबके बीच कुछ बेहद ही गंभीर मामले सामने आए हैं जिसके बाद बच्चों की vaccine बनाने वाली कंपनी Bharat Biotech को टीकाकरण को लेकर एक अनुरोध पत्र जारी करना पड़ गया.

क्या है पूरा मामला जानिए

बच्चों को Covid-19 vaccine के रूप में भारत बायोटेक द्वारा निर्मित Covaxin की डोज दी जा रही है. मालूम हो कि सरकार ने भारत में बच्चों के लिए सिर्फ और सिर्फ भारत बायोटेक द्वारा निर्मित टीका Covaxin को ही मान्यता दिया है.

जब बच्चों के टीकाकरण की शुरुआत की गई थी तो सरकार ने अपने निर्देश में यह साफ कहा था कि बच्चों को सिर्फ और सिर्फ Covaxin की डोज ही जाएगी जाएगी.

लेकिन आए दिन देश के विभिन्न हिस्सों से ऐसी खबरें आती रहती हैं कि बच्चों को Covaxin की जगह Covishield का टीका दे दिया गया, जो कि एक बेहद ही गंभीर और बच्चों की सेहत और जान के साथ खिलवाड़ है.

मालूम हो कि Covaxin की जगह Covishield या फिर किसी अन्य टीके को दिये जाने की पूरी तरह से मनाही है फिर भी अनियमितता की घटनाएं रोज सामने आ रही हैं.

मालूम हो कि भारत बंधु ने बच्चों के टीकाकरण की शुरुआत के समय है इस बात को सबसे पहले उठाया था कि खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को जागरूक रहने की जरूरत है कि बच्चों को कौन सी वैक्सीन दी जा रही है, पढ़ें पूरी खबर…

इन घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए बच्चों के टीका को बनाने वाली कंपनी Bharat Biotech ने उन सभी स्वास्थ्य कर्मियों से जो कि टीकाकरण से जुड़े हुए हैं आग्रह किया है.

बच्चों की वैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक ने कहा है कि बहुत सारी रिपोर्ट्स में यह बातें सामने आ रही हैं कि बच्चों को को Covaxin की जगह दूसरी वैक्सीन दी जा रही है, इसलिए हमारा अनुरोध है कि ऐसा ना होने दें और वैक्सीन देने से पहले यह सुनिश्चित कर लें की बच्चों को सिर्फ और सिर्फ Covaxin ही दी जा रही है.

भारत बायोटेक द्वारा जारी अनुरोध पत्र
भारत बायोटेक द्वारा जारी अनुरोध पत्र

कंपनी ने इसको लेकर कंपनी द्वारा टीके के वृहद तौर पर किए गए ट्रायल का हवाला भी दिया गया है. कंपनी ने कहा है कि भारत सरकार ने सिर्फ और सिर्फ हमारी कंपनी को ही बच्चों की वैक्सीन के लिए मान्यता दिया है.

कंपनी ने यह भी कहा कि हमने 2 से 18 वर्ष के बच्चों पर वैक्सीन का सफल परीक्षण किया है लेकिन भारत सरकार ने अभी 15 से 18 वर्ष के बच्चों को वैक्सीन देने की अनुमति दी है और इसके लिए सिर्फ और सिर्फ हमारी कंपनी द्वारा निर्मित Covaxin को ही मान्यता दिया गया है.

एक नज़र देश में कोविड-19 के मामलों पर: देश में corona के मामले बेहद तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. बीते 24 घंटे में देश में corona के 1 लख से भी अधिक नए मामले दर्ज किए गए हैं.

अगर आंकड़ों पर गौर करें तो बीते 24 घंटे में देश में corona के 1.41 लाख मामले दर्ज किए गए वहीं 285 लोगों की इस महामारी से मौत हो गई. देश में सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र में दर्ज किए गए हैं.

महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में 40925 नए corona संक्रमित ओं की पहचान हुई है  वहीं दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल है जहां 18223 नए मामले सामने आए.

देश की राजधानी दिल्ली के  हालात भी गंभीरदेश की राजधानी दिल्ली की भी हालत बेहद गंभीर हो चुकी है. यहां बीते 24 घंटे में corona के मामले में जबरदस्त उछाल आया है.

Delhi Weekend Curfew
Delhi Weekend Curfew

दिल्ली में बीते 24 घंटे में 18213 नए मामले दर्ज किए गए साथ ही 9 लोगों की मौत भी हो गई. दिल्ली में अब पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 17.73% पर पहुंच चुकी है.

दिल्ली में बढ़ते मामलों को देखते हुए weekend Curfew लगा दिया गया है. साथ ही Night Curfew का प्रावधान भी पहले से ही लागू है.

वीकेंड कर्फ्यू के दौरान घरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह से प्रतिबंध है लेकिन कुछ मामलों में छूट भी दी गई है.

जिनको रेल हवाई या फिर बस यात्रा करनी है उनके लिए छूट का प्रावधान है लेकिन उन्हें यात्रा टिकट अपने पास लेकर चलना होगा और सुरक्षाकर्मी जहां  भी इसे दिखाने को कहें दिखाना होगा.

स्वास्थ्य सेवाओं में लगे हुए कर्मचारियों को और इमरजेंसी सेवा के कर्मचारियों को इस कर्फ्यू से अलग रखा गया है वहीं प्राइवेट सेक्टर के कार्यालयों में 50% क्षमता के साथ कार्य करने की अनुमति दी गई है.