Vaccination For Children

Vaccination For Children :बच्चों को दी जाएगी Covaxin जानिए Registration की पूरी प्रक्रिया, 1 जनवरी से हो रही है शुरुआत

Vaccination For Children:15 से 18 वर्ष तक के बच्चों को 3 जनवरी से Vaccination किया जाएगा जिसमें भारत बायोटेक निर्मित Covaxin का इस्तेमाल होगा. जानिए Co-WIN app पर Registration की पूरी प्रक्रिया

जिन माता-पिता या अभिभावक को बच्चों को Vaccine लगवाना है वे 1 जनवरी 2022 यानी New Year के पहले दिन से रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया का हिस्सा बन सकते हैं.

15+ age group के बच्चों को 3 जनवरी से भारत बायोटेक की वैक्सीन Covaxin दी जाएगी. मालूम हो कि सरकार ने बच्चों के वैक्सीन के रूप में अभी सिर्फ Covaxin को ही मंजूरी दी है.

बच्चों को वैक्सीन दिलाने के लिए सबसे पहले Co-WIN app पर जाकर बच्चों का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया बेहद ही आसान है. इसमें  सभी चीजें वैसे ही रहेंगी जैसे कि बड़ों के रजिस्ट्रेशन के लिए की गई थी. बच्चों के पहचान के लिए ID proof के तौर पर Aadhar Card का इस्तेमाल किया जा सकता है.

लेकिन जिन बच्चों के पास आधार कार्ड नहीं है उन्हें चिंतित होने की जरूरत नहीं है. वैसे बच्चे जिनके पास आधार कार्ड उपलब्ध नहीं होगा वह class 10th के ID Card का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Co-WIN app पर जाकर सबसे पहले मोबाइल नंबर डालना होगा. उसके बाद OTP आने पर ओटीपी दर्ज करनी होगी. जिसके बाद नाम उम्र पता दर्ज  करना होगा फिर आईडी प्रूफ मांगा जाएगा और इस प्रकार बच्चों का वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन संपन्न हो जाएगा.

15+ Age Group के बच्चों के मता-पिता  Vaccine के Side effects को लेकर चिंता, लेकिन डरने की नही है जरुरत

अगर 15 से 18 वर्ष के बच्चों की आबादी की बात करें तो देश में इनकी अनुमानित आबादी लगभग 10 करोड़ है.

बच्चों की वैक्सीन के साइड इफेक्ट को लेकर बहुत से माता-पिता और अभिभावक अभी से चिंतित होने लगे हैं लेकिन उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि भारत कोई अकेला देश नहीं है जहां बच्चों को corona की वैक्सीन दी जा रही है.

मालूम हो कि भारत से पहले भी कई देश ऐसे हैं जिन्होंने अपने यहां बच्चों को वैक्सीन दी है. विश्व में 30 से भी ज्यादा देश ऐसे हैं जिन्होंने बच्चों  के वैक्सीनेशन की प्रक्रिया की शुरुआत बहुत पहले से कर दी है.

यहां यह बताना जरूरी है कि बच्चों को   वैक्सीन दिलाना है या नहीं इस पर अंतिम निर्णय  माता-पिता या अभिभावक का होगा. इसका अर्थ यह है कि बच्चों को वैक्सीन दिए जाने को लेकर कोई जोर जबरदस्ती नहीं है.

लेकिन corona के नए वैरीअंट Omicron के मामले जिस प्रकार से देश में दिन प्रतिदिन बढ़ते   जा रहे हैं उसे देखते हुए बच्चों को टीका जरूर दिलाना चाहिए.