The Bharat Bandhu

Vaccination की रफ्तार बढ़ने से COVID-19 रिकवरी रेट में सुधार अब एक्टिव मरीजों का प्रतिशत मात्र 1.09 और देश भर में  हर्ष उल्लास के साथ मनाया जा रहा है रक्षाबंधन का त्यौहार

Vaccination की रफ्तार बढ़ने से COVID-19 रिकवरी रेट में सुधार अब एक्टिव मरीजों का प्रतिशत मात्र 1.09 और देश भर में  हर्ष उल्लास के साथ मनाया जा रहा है रक्षाबंधन का त्यौहार

  • Vaccination बढ़ने से corona की रफ्तार पर लगाम
  • रिकवरी रेट में जबरदस्त सुधार
  • दिल्ली सहित संपूर्ण देश में पाबंदियों में ढील
    आज संपूर्ण भारत में रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जा रहा है

देश में vaccination की रफ्तार बढ़ने से corona के मामलों में कमी आने लगी है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार अभी तक 58.14 करोड़ वैक्सिंग के डोज दिए जा चुके हैं.

वहीं बीते 24 घंटे में 30948 नए मामले आए हैं, एक्टिव मरीजों का प्रतिशत अब मात्र 1.09 रह गया है, यह मार्च 2020 से लेकर अब तक का सबसे न्यूनतम है.

अगर कुल एक्टिव मरीजों की संख्या की बात करें तो वर्तमान में इनकी संख्या 3 लाख 53 हजार 398 है जो कि 152 दिनों में सबसे कम है.

corona से ठीक होने वाले मरीजों का प्रतिशत यानी रिकवरी रेट में जबरदस्त सुधार हुआ है अब यह 97.57% तक पहुंच गया है, यह मार्च 2020 से लेकर अब तक का सर्वाधिक है.

IMG 20210822 095756 द भारत बंधु

बीते 24 घंटे में 38 हजार 487 मरीजों ने corona को मात दे दिया है, Corona के मामलों में कमी आने के कारण संपूर्ण देश समेत राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी धीरे-धीरे पाबंदियों को कम किया जा रहा है.

पाबंदियों को कम करने से बाजारों में रौनक लौटने लगी है. दिल्ली में अब बाजारों को रात्रि 8:00 बजे के बाद भी खोलने की इजाजत दे दी गई है.मालूम हो कि दिल्ली में बीते 24 घंटे में मात्र 17 corona मरीज पाए गए हैं.

घटते मामलों के बीच अधिकतर पाबंदियों को हटा लिया गया है लेकिन स्कूल और कोचिंग संस्थानों को अभी भी खोलने की इजाजत नहीं दी गई है, उम्मीद है जल्द ही सरकार इस पर भी कोई बड़ा फैसला लेगी.

वहीं UP और बिहार मैं स्कूल कॉलेज कोचिंग संस्थानों को कुछ पाबंदियों के साथ खोलने की इजाजत दे दी गई है.

बिहार में पंचायत चुनाव की तारीखों की घोषणा भी कर दी गई है, अब देखना यह है कि पाबंदियों के हटने के बाद लोग को कोविड-19  प्रोटोकॉल का पालन सही से करते हैं या नहीं .

अगर लोगों ने सावधानियों का ध्यान नहीं रखा तो हालात फिर से बिगड़  सकते हैं क्योंकि corona कम हुआ है खत्म नहीं.

देश