UP Phase 1 Election

UP Phase 1 Election Updates: उत्तर प्रदेश(UP) विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में कैराना में 75% से अधिक मतदान के क्या हैं मायने

UP Phase 1 Election Updates: UP विधानसभा के प्रथम चरण का चुनाव संपन्न अमित शाह और मोदी ने बार-बार कैराना का लिया था नाम हुई 75% वोटिंग

UP में प्रथम चरण का मतदान( Phase 1 Voting) छिटपुट हिंसक घटनाओं को छोड़कर शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया. प्रथम चरण में वोटिंग प्रतिशत 60.51% रहा.

मालूम हो कि यूपी विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण (UP Phase 1 Election) में 11 जिलों की 58 सीटों पर 623 प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे.

इन 11 जिलों में कुल मतदाताओं की संख्या 2.27 करोड़ है जिसमें से एक करोड़ महिला वोटर हैं. महिला वोटरों की इतनी बड़ी तादात होने के बावजूद महिला प्रत्याशियों की संख्या बेहद ही कम है.

इस बार 58 सीटों पर मात्र 73 महिला प्रत्याशी खड़ी है जबकि कुल 623 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं. महिला प्रत्याशियों की कम संख्या को देखते हुए सभी पार्टियों के महिला पक्षधर होने की पोल पट्टी भी खुलती है.

इस बार कैराना(Kairana) विधानसभा पर सबकी नजर टिकी हुई है क्योंकि यह एकमात्र ऐसा विधानसभा क्षेत्र है जहां 75% से अधिक वोटिंग हुई है.

गौरतलब है कि इसी कैराना विधानसभा से पलायन की खबरों ने खूब सुर्खियां बटोरी थी और अमित शाह के साथ-साथ नरेंद्र मोदी ने भी बार-बार कैराना का जिक्र किया था. कैराना से बीजेपी ने मृगांका सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है.

अगर चुनावी एक्सपर्ट्स की मानें तो वोटिंग प्रतिशत का कम या ज्यादा होना सत्ताधारी पार्टी के लिए खतरे की घंटी होती है लेकिन कैराना की स्थिति थोड़ी भिन्न है. जिस कारण यह कहना अभी जल्दबाजी होगी कि वहं किस पार्टी की जीत होगी.

आशीष मिश्रा को हाईकोर्ट से जमानत:एक और बड़ी खबर जिसका यूपी विधानसभा चुनाव से गहरा संबंध है वह यह है कि अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा जिन पर यह आरोप है कि आंदोलन कर रहे किसानों पर उन्होंने अपनी गाड़ी चढ़ा दी थी आज उनको हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है.

हाई कोर्ट से मिली जमानत पर किसान नेताओं ने ऐतराज जताया है. किसान नेताओं का कहना है कि सुनवाई के दौरान कनेक्शन में बाधा आई और जिस कारण हमारी बातें नहीं सुनी गई और जमानत की प्रक्रिया एकतरफा हुई.

बताते चलें कि अजय मिश्रा टेनी ब्राह्मण जाति से आते हैं और यूपी में द्वितीय चरण का मतदान 23 फरवरी को होना है और 23 फरवरी तक आशीष मिश्रा जेल से बाहर होंगे जिसका चुनाव पर असर पड़ना स्वाभाविक है.