less YouTube Views

Student Commits Suicide due to less YouTube Views: यूट्यूब पर कम व्यूज मिलने पर IITM ग्वालियर के छात्र ने दे दी जान

Student Commits Suicide due to less YouTube Views: यूट्यूब पर कम व्यूज से परेशान था IITM ग्वालियर का छात्र, तीसरी मंजिल से कूदकर खत्म कर ली अपनी जीवन लीला!!

ग्वालियर से एक चौकाने वाली खबर सामने आ रही है. मीडिया रिपोर्ट के हवाले से यह बात सामने आई है कि ग्वालियर IITM के एक छात्र ने यूट्यूब पर कम व्यूज (Student Commits Suicide due to less YouTube Views) आने के कारण आत्महत्या कर ली.

आज का दौर सोशल मीडिया का दौर है. जहां हर कोई सोशल मीडिया पर अपने आप को पॉपुलर (Popularity On Social Media) होता देखना चाहता है. और इसके लिए वह विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का उपयोग करता है. लेकिन कभी-कभी पॉपुलर होने की सनक जान भी ले लेती है. ताजा उदाहरण IITM ग्वालियर के एक छात्र की आत्महत्या(IITM Gwalior Student Suicide) से जुड़ा है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार छात्र IITM ग्वालियर में  पढ़ाई कर रहा था और उसने यूट्यूब पर अपना एक चैनल बनाया था(New Youtube Channel). उस चैनल को लेकर छात्र को काफी ज्यादा उम्मीदें थी और उसे ऐसा लग रहा था कि उसका चैनल जल्द से जल्द पॉपुलर हो जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ और उसके चैनल पर उसके मन मुताबिक फौलोवर और व्यूज़ नहीं आ रहे थे. जिस कारण से छात्र परेशान रहने लगा, जैसा कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है.

लेकिन किसी को भी ऐसी उम्मीद नहीं थी कि सिर्फ इतनी सी बात से छात्र अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेगा. अपने चैनल पर कम यूज(Less Views On Youtube) आने से छात्र इतना परेशान रहने लगा कि उसने सारी हदें पार करते हुए तीसरी मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी.

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और इस आत्महत्या की जांच कर रही है.पुलिस को छात्र के पास से किसी प्रकार का कोई सुसाइड नोट(Suicidal Notes) नहीं मिला है. मालूम हो कि पुलिस ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि युवक ने आत्महत्या यूट्यूब पर मिले कम व्यूज के कारण की है. लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसे दावे किए जा रहे हैं.

इस बात में सच्चाई तो है कि आजकल लोगों का ज्यादातर समय(More Time On Social Media) खासकर छात्रों का सोशल मीडिया पर बीतता है और युवा वर्ग की चाहत होती है कि जल्द से जल्द सोशल मीडिया पर एक ऊंचा मुकाम हासिल कर लें. क्योंकि सोशल मीडिया पर अक्सर ऐसे कंटेंट डाले जाते हैं जिसमें पॉपुलर लोग आते हैं और कम समय में ही अपनी सफलता का गुणगान करते हैं.

और इसे देखकर युवा पीढ़ी  सोचने लग जाती है कि वे भी कम समय में ही यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया प्लेट्फार्म की मददत से पॉपुलर होकर अच्छा खासा नाम और पैसा कम समय और कम मेहनत से कमा सकते हैं. जबकि सच्चाई ये है कि सोशल मीडिया पर जगह बनाना इतना आसान नहीं है.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जगह बनाने के लिए कड़ी मेहनत के साथ-साथ पेशंस की भी जरूरत पड़ती है.अगर किसी के पास धैर्य नहीं है तो जल्द ही वह फ्रस्टेड होने लगता है. और ऐसी स्थिति में डिप्रेशन का शिकार भी हो जाता हैं.

इसलिए युवाओं को यह चाहिए कि सबसे पहले वे ये याद रखे कि  कि जो भी व्यक्ति सोशल मीडिया पर सफल हुआ है उसने कितनी मेहनत की है. वे लोग किस प्रकार का कंटेंट  डालते हैं और वे लोग  जो कह रहे हैं, अपने बारे में जो जानकारी दे रहे हैं  सही है या नहीं. क्योंकि आत्महत्या करना, अपने जीवन को समाप्त कर लेना यह किसी समस्या का समाधान नहीं है.