Khan Sir patna

Prayagraj Violence Updates: हॉस्टल कांड में 6 पुलिसवालों पर गिरी गाज Khan Sir पर FIR

Prayagraj Violence Updates: प्रयागराज  हॉस्टल में पुलिसिया तांडव पर सरकार ने की बड़ी कार्रवाई, 6 पुलिसवालों पर गिरी गाज Patna के Khan Sir सहित कई अन्य लोगों पर पटना के कई थानों में FIR दर्ज 

रेलवे भर्ती परीक्षा(RRB NTPC) को लेकर छात्रों के विरोध प्रदर्शन में हुई हिंसा पर पुलिस ने एक्शन लेते हुए 2 दिन पहले प्रयागराज के कई हॉस्टलों में छापेमारी की थी.

पुलिस की इस छापेमारी के दौरान सोशल मीडिया पर कई वीडियो वायरल हुए, जिसमें यह साफ दिख रहा था कि पुलिसकर्मी छात्रों की बेरहमी से पिटाई कर रहे थे और उन्हें हॉस्टल से जबरन खींच कर बाहर निकाल रहे थे.

जब यह वीडियो वायरल होने लगी तो उत्तर प्रदेश सरकार ने स्वत संज्ञान लेते हुए इस घटना में शामिल 6 पुलिसवालों को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है.

साथ ही प्रयागराज के SSP ने आंदोलित और आक्रोशित छात्रों से संयम बनाए रखने की गुजारिश भी की है.

वहीं रेलवे(Railway) ने भी छात्रों की अधिकांश मांगें मान ली है. रेल मंत्री(Railway Minister) ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर छात्रों से शांति बनाए रखने की मांग की है.

प्रयागराज Hostel कांड पर अब राजनीति भी तेज हो गई है. जहां विपक्ष ने इस घटना को लेकर केंद्र और राज्य सरकार को घेरना शुरू कर दिया है तो वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने छात्रों से कहा है कि पुलिस द्वारा जो कार्यवाही की गई वह दुर्भाग्यपूर्ण है और सरकार इसकी जांच कर रही है.

मालूम हो कि 10 फरवरी से उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की शुरुआत होने जा रही है और चुनावी मौसम में छात्रों का मुद्दा बेहद संवेदनशील होता है यह सब जानते हैं. इस कारण सरकार की हर संभव कोशिश होगी कि मामला शांतिपूर्ण ढंग से हल हो जाए.

वहीं रेलवे भर्ती में धांधली को लेकर गुस्साए छात्रों ने कल भी बिहार के गया(Gaya) में जमकर तांडव मचाया और एक रेलगाड़ी में आग लगा दी.

बिहार के चर्चित शिक्षक और कोचिंग संचालक खान सर (Khan Sir) ने सभी विद्यार्थियों से संयम और शांति बनाए रखने की अपील की है. कल उन्होंने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से मुलाकात की और मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि रेलवे ने अधिकतर मांगे मांग ली है.

इसलिए छात्रों को अब आंदोलन वापस ले कर पढ़ाई में जुट जाना चाहिए. खान सर(Khan Sir) ने कहा कि रेलवे ने छात्रों की लगभग 90% मांगों को मान लिया है और इस प्रकार अब छात्रों को घर वापस जाना चाहिए.

जब मीडिया कर्मियों ने Khan Sir  से छात्रों द्वारा किए गए हिंसा पर सवाल किया गया तो खान सर ने कहा कि हम हिंंसा के किसी भी रूप का समर्थन नहीं करते साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर रेलवे बोर्ड पहले ही यह घोषणा कर देती तो यह स्थिति उत्पन्न नहीं होती.

मालूम हो कि हिंसा वाले दिन पटना के डीएम ने यह संकेत दिया था कि पटना के कुछ कोचिंग संचालक हैं जो कि छात्रों को उकसा रहे हैं. बताते चलें कि Khan Sir सहित कई अन्य लोगों पर पटना के कई थानों में एफआइआर भी दर्ज कराई गई है.