Lalu Yadav

Lalu Yadav को चारा घोटाले मामले में CBI कोर्ट ने ठहराया दोषी, लिए गए हिरासत में

Lalu Yadav को CBI कोर्ट से कोई राहत नहीं, चारा घोटाले मामले में दोषी करार कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने लिया हिरासत में, 21 फरवरी को होगा सजा का ऐलान

बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले मामले में लालू प्रसाद यादव(Lalu Prasad Yadav) की मुश्किलें एक बार फिर से बढ़ गई हैं क्योंकि आज डोरंडा ट्रेजरी से 139.35 करोड़ रुपए  की हेराफेरी के मामले में CBI कोर्ट का फैसला आ गया है.

Lalu Prasad Yadav

CBI कोर्ट ने उन्हें डोरंडा ट्रेजरी मामले में दोषी पाया है. सीबीआई की विशेष अदालत ने RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव(Lalu Prasad Yadav) सहित 75 आरोपियों को दोषी ठहराया है जबकि इस मामले में 24 लोगों को बरी कर दिया गया.

अदालती आदेश आने के तुरंत बाद ही लालू प्रसाद यादव को पुलिस ने अपने हिरासत में ले लिया है लेकिन अभी लालू प्रसाद यादव को लेकर सजा का ऐलान नहीं किया गया है.

सीबीआई अदालत द्वारा सजा का ऐलान आने वाली 21 फरवरी को होगा वहीं लालू प्रसाद यादव के वकीलों ने दोषी करार देने के बाद अदालत से यह गुहार लगाई है कि लालू प्रसाद यादव स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं से जूझ रहे हैं इसलिए उन्हें जेल ना भेजा जाए बल्कि उन्हें RIMS भेजा जाए.

लालू यादव कि आज की रात जेल में कटेगी या फिर Ranchi मेडिकल हॉस्पिटल(RIMS) में यह तो अदालत के फैसले पर निर्भर करेगा क्योंकि अदालत इस मामले पर दोपहर बाद सुनवाई करेगी.

लालू यादव के दोषी करार होने के बाद उनके समर्थकों में गहरी मायूसी छा गई है साथ ही RJD के राजनीतिक भविष्य पर भी प्रश्न चिन्ह लगने लगे हैं. कुछ दिन पहले जब यह मामला उठा था कि आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर तेजस्वी यादव(Tejashwi Yadav) को बिठाया जा सकता है तो लालू यादव ने इस पर साफ इनकार किया था.

लेकिन अब यह लगने लगा है कि अगर लालू प्रसाद यादव को इस मामले में ऊपरी अदालतों से कोई  राहत नहीं मिलती है तो RJD की कमान तेजस्वी को सौंपी जा सकती है.

वैसे अभी यह देखना होगा कि दोपहर बाद अदालत क्या फैसला सुनाती है. लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav)को रांची मेडिकल कॉलेज(RIMS) में भेजा जाता है या फिर जेल.

LIVE UPDATES: लालू प्रसाद यादव के वकीलों ने दोषी करार देने के बाद अदालत से यह गुहार लगाई थी कि लालू प्रसाद यादव स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं से जूझ रहे हैं इसलिए उन्हें जेल ना भेजा जाए बल्कि उन्हें RIMS भेजा जाए, CBI Special Court ने वकीलों की मानी बात भेजे गए RIMS.