Health Index 2021

Health Index 2021: नीति आयोग द्वारा जारी Health Index में UP और Bihar फिसड्डी, डबल इंजन की सरकार विपक्ष के निशाने पर

Health Index 2021:नीति आयोग द्वारा जारी Health Index में UP और Bihar को निराशा हाथ लगी है तो वहीं Kerala ने एक बार फिर से मारी बाजी. जिन राज्यों में होने हैं चुनाव  स्वास्थ्य मामले में उनकी स्थिति बेहद गंभीर.

नीति आयोग ने स्वास्थ्य सूचकांक (Health Index) 2021 जारी कर दिया है इस सूचकांक में सबसे ज्यादा खराब स्थिति UP और बिहार की है.

यूपी और बिहार दोनों ही निचले पायदान पर हैं. जहां इस सूचकांक में बिहार 18 वें पायदान पर है तो यूपी 19वें पायदान पर.

अगर उत्तर भारतीय राज्यों की बात करें तो स्वास्थ्य सूचकांक के TOP 5 में एक भी उत्तरी राज्य शामिल नहीं है.

महाराष्ट्र पांचवें स्थान पर तो गुजरात छठे स्थान पर वहीं झारखंड 13 वें और छत्तीसगढ़ दसवें स्थान पर है.

चुनावी राज्यों की बात करें तो उत्तराखंड और पंजाब की स्थिति भी गंभीर है. नीति आयोग द्वारा जारी किए गए सूचकांक में उत्तराखंड 15 में पायदान पर और पंजाब आठवें पायदान पर है.

देश और दुनिया में बढ़ते कोरोना के मामलों ने सभी को चिंता में डाल दिया है. वहीं आज जारी हुए स्वास्थ्य सूचकांक ने भी सबको गहरा झटका दिया है.

मालूम हो कि स्वास्थ्य सूचकांक के लिए 2019-20 को बेस ईयर(Base Year) चुना गया था. केरल(Kerala) भारत का एक ऐसा राज्य है जो लगातार चार बार से इस सूचकांक में उच्चतम स्थान पर काबिज है.

मालूम हो कि अभी corona की स्थिति फिर से एक बार बिगड़ती जा रही है. जिसे देखते हुए स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को दुरुस्त होना बेहद ही जरूरी है.

आज देश की राजधानी दिल्ली में corona ने एक बार फिर से जबरदस्त वापसी की है और 331 नए corona मरीज पाए गए.

Corona के नए वेरिएंट Omicron के मामले में भी दिल्ली अब टॉप पर आ गई है. दिल्ली में Omicron से संक्रमित मरीजों की संख्या 142 है. जबकि महाराष्ट्र में Omicron से संक्रमित मरीजों की संख्या वर्तमान में 141 है.

अगर पूरे देश की बात करें तो Omicron संक्रमितों की संख्या अब 600 के पार पहुंच चुकी है. बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए देश के कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू(Night Curfew) का ऐलान कर दिया गया है.

लेकिन चुनावी राज्यों में रैलियों का दौर जारी है. रैलियों को लेकर BJP सांसद वरुण गांधी ने सभी पार्टियों को निशाने पर लिया और कहा कि दिन में रैली और रात में कर्फ्यू के क्या फायदे होंगे यह सोचने वाली बात है.