Haridwar Dharm Sansad hate speech

Haridwar Dharm Sansad Controversy: हरिद्वार धर्म संसद को लेकर विवाद बढ़ा, देश के नामचीन वकीलों ने CJI से हस्तक्षेप की गुजारिश

Haridwar Dharm Sansad Controversy: 17 से 19 दिसंबर यानी 3 दिनों के लिए हरिद्वार में धर्म संसद का आयोजन किया गया था लेकिन इस धर्म संसद में कुछ विवादास्पद भाषण देने की बात मीडिया रिपोर्ट्स में कही जा रही है. जिसके कारण अब मामला गंभीर होता जा रहा है.

हरिद्वार में आयोजित धर्म संसद में विवादास्पद भाषण को लेकर देश के नामचीन वकीलों ने चीफ जस्टिस(CJI) एनवी रमन्ना को पत्र लिखा है.

वकीलों में प्रशांत भूषण दुष्यंत दवे वृंदा ग्रोवर सलमान खुर्शीद जैसे बडे नाम शामिल हैं. इन लोगों ने CJI रमन्ना से यह गुजारिश की है कि कि जल्द से जल्द इस मामले पर कोई कदम उठाया जाए नहीं तो लोकतंत्र खतरे में आ जाएगा.

मालूम हो कि 17 से 19 दिसंबर के बीच हरिद्वार में आयोजित धर्म संसद में नफरत भरे  भाषण देने के आरोप लगे हैं. जिसमें किसी एक धार्मिक समूह को निशाना बनाया गया.ऐसा मीडिया रिपोर्ट में खुलासा हुआ है.

भाषण देने में वसीम रिजवी से हाल ही में जितेंद्र त्यागी बने पूर्व BJP नेता का भी नाम सामने आ रहा है . पुलिस ने उन पर FIR भी दर्ज की है.

भाषण देने में एक और नाम शामिल है जिस पर लोगोंं को सबसे अधिक आपत्ति है. वो नाम है अन्नपूर्णा मां का जिनका संबंध निरंजनी अखाढा से है. इनका एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें कथित रुप से अन्नपूर्णा मां विवादित भाषण देती हुई नजर आ रही हैं.

पुलिस ने कुछ और अन्य लोगों के खिलाफ भी धारा 153 के तहत FIR दर्ज की है लेकिन कुछ धार्मिक समूह और बुद्धिजीवी वर्ग पुलिस की कार्यवाही से संतुष्ट नहीं हैं.

जिन वकीलों ने सीजीआई रमन्ना से हस्तक्षेप की मांग की है उनकी फेहरिस्त लंबी है. इसमें  देश के नामी-गिरामी 76 वकील शामिल हैं.

मालूम हो कि उत्तराखंड में चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में इस प्रकार का वातावरण कहीं न कहीं नफरत को बढ़ावा देने वाला है. शायद इसलिए भी 76 वकीलों ने CJI एनवी रामन्ना से हस्तक्षेप की मांग की है.

Hridwar Dharm Sansad मामले में Wasim Rizvi (Yati Narsinghanand) को उत्तराखंड पुलिस ने किया गिरफ्तार..

मालूम हो कि वसीम रिजवी ने अभी हाल में ही मुस्लिम धर्म को छोडकर हिंदु धर्म अपनाया है.

LIVE Updates…