Farmani Naaz Har Har Shambhu Bhakti Song Controversy

Farmani Naaz Har Har Shambhu Bhakti Song Controversy: क्या फरमानी नाज़ हर हर शंभू गाने पर उठे विवाद के बाद नहीं गाएंगी भक्ति गीत!!

Farmani Naaz Har Har Shambhu Bhakti Song Controversy: हर हर शंभू गाकर विवादों में आई मुस्लिम गायिका फरमानी नाज़ ने भक्ति गीत को लेकर कह दी बड़ी बात, क्या फरमानी नाज बंद कर देगी भक्ति गीत गाना??

हर हर शंभू गाना गाकर विवादों में घिरी मुस्लिम धर्म से ताल्लुक रखने वाली फरमानी नाज(Farmani Naaz) आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है. लेकिन उनके इस गाने से कुछ मुस्लिम धर्म गुरुओं को आपत्ति है और उन्होंने इसे लेकर फतवा भी जारी कर दिया.

मुस्लिम धर्म गुरुओं का कहना है कि मुस्लिमों के लिए नाचना गाना प्रतिबंधित है. फतवा जारी करने के बाद फरमानी नाज( ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है फरमानी नाज की प्रतिक्रिया के बाद यह विवाद और बढ़ गया है.

फरमानी नाच ने ने हर हर शंभू गाने पर फतवा जारी करने वाले उलेमाओं को आईना दिखाते हुए कहा कि जब पति मुझे परेशान करता था मारता था मेरा बच्चा बीमार था तो उस वक्त या धर्मगुरु कहां थे उस समय तो कोई मेरी रक्षा के लिए और मेरी मदद के लिए आगे नहीं आया.

फरमानी नाज(Farmani Naaz Har Har Shambhu Bhakti Song Controversy) ने साफ कहा है कि कोई भी भक्ति गीत हो वह भक्ति गीत है और मुझे इससे कोई परहेज नहीं है. बताते चलें कि फरमानी नाज़ बेहद ही गरीबी से आगे बढ़ी हैं और अपना एक मुकाम हासिल किया है.

फरमानी नाज़ को पॉपुलर करने में एक यूट्यूबर और उनके भाई की बड़ी भूमिका रही है. फरमानी नाज ने इंडियन आइडल(Indian Idle) में भी अपना भाग्य आजमाया था. फरमानी नाज ने यह  भी बताया कि उन्हें कुमार सानू ने भी एक गाना दिया है.

फरमानी नाज के हर हर शंभू गीत गाने के बाद उपजे विवाद से कुछ और बातों की चर्चा भी सभी तरफ होने लगी है. जिसमें लोग मुखर होकर कह रहे हैं कि क्या फरमानी नाज को मुस्लिम होने के कारण टारगेट किया जा रहा है या फिर एक महिला होने का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है.

क्योंकि बीते कई दशकों से कई ऐसे मुस्लिम गायक हुए जिन्होंने हिंदू भक्ति गीत गाए और वह गीत बेहद पॉपुलर भी हुए और जनता ने उन गीतों को बहुत सराहा भी. साथ ही कई बॉलीवुड एक्टर(Bollywood Actors) ने हिंदू गीतों पर अभिनय भी किया है.जिसमें सभी के दिलों पर राज करने वाले दिलीप कुमार भी शामिल हैं.

अगर आपको याद हो तो एक गीत  अमजद खान पर फिल्माया गया था जिसके बोल थे रूठे यार से मिला दे ओ भोले ओ भोले.. इस गीत को काफी लोकप्रियता हासिल हुई थी और शायद ही इस गीत पर कोई विवाद उठा हो. तो क्या आज फरमानी नाज को महिला होने की सजा मिल रही है.

वैसे  जिस प्रकार से फरमानी नाज ने फतवा जारी करने वाले उलेमाओं के खिलाफ मोर्चा संभाला है उसके लिए उनकी हिम्मत को दाद देनी चाहिए. फरमानी नाज़ ने साफ कहा कि मैं एक कलाकार हूं और मैं इसमें किसी प्रकार के भेदभाव को शामिल नहीं करती और हमेशा जो भी गीत मुझे अच्छा लगेगा मैं गाती रहूंगी.