gdm5

Morning News Updates:ASSAM में फिर चला इलेक्शन कमिशन का डंडा,किसान आंदोलन,पंजाब में बंधुआ मजदूरी जैसी बड़ी खबरों पर एक नज़र

Morning News updates में हम लेकर आते हैं उन सभी खबरों को संक्षिप्त रूप में जो बनती हैं दिनभर की सुर्खियां..

ASSAM में फिर चला इलेक्शन कमिशन का डंडा BJP के लिए नई मुसीबत

असम में चुनाव आयोग की सख्ती अब दिखने लगी है ताजा मामला बीजेपी नेता और मंत्री हिमन्त विश्व शर्मा से जुड़ा है.

हिमन्त विश्व शर्मा ने पीपीएफ यानी बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट जो कि असम में कांग्रेस की सहयोगी पार्टी है उसके प्रमुख हाग्रामा मोहिलेरी पर आपत्तिजनक और धमकी भरी टिप्पणी की थी.

जिसके बाद कांग्रेस और PPF ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की थी. चुनाव आयोग ने इस पर कार्यवाही करते हुए हिमंत के चुनाव प्रचार करने पर 48 घंटे की रोक लगा दी है.

चुनाव आयोग ने हिमन्त विश्व शर्मा के इस कृत्य को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करार दिया है.

इस कारण असम में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं.अभी ईवीएम का विवाद ठंडा भी नहीं हुआ था कि फिर से इस नए  विवाद ने तूल पकड़ लिया है.

किसान आंदोलन कहीं सिख बनाम हिंदुत्व की खींचतान में दिशाहीन ना हो जाए

कोई भी आंदोलन तभी सफल होता है जब उसकी दशा और दिशा सही हो.

पंजाब में शुरू हुआ किसान आंदोलन पूरे देश में फैलता जा रहा था लेकिन कुछ संगठनों की बयान बाजी से कहीं ऐसा ना हो कि यह आंदोलन सिर्फ पंजाब के दायरे में सिमट कर रह जाए और इस आंदोलन का स्वरूप सिख बनाम हिंदुत्व की लड़ाई में तब्दील हो जाए.

ऐसा इसलिए क्योंकि अमृतसर में हुए गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की बैठक में एक प्रस्ताव पारित कर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी एसजीपीसी ने आर एस एस यानी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर आरोप लगाया है कि RSS भारत को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहता है और अल्पसंख्यकों से भेदभाव पूर्ण व्यवहार को पैदा कर रहा है.

इस बयान के बाद भाजपा और एसजीपीसी के बीच तनाव पैदा हो गया है और हो सकता है कि इस बयान का असर बंगाल चुनाव पर भी पड़े.

ऐसा इसलिए क्योंकि सत्तारूढ़ दल यानी बीजेपी हमेशा से किसान आंदोलन को एक वर्ग विशेष और एक राज्य विशेष का आंदोलन बताती आ रही है.

पंजाबमें बंधुआ मजदूरी बीएसएफ की रिपोर्ट में खुलासा

बंधुआ मजदूरी यानी किसी को गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाकर काम करवाना,ताजा मामला पंजाब से जुड़ा है.

केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार को एक पत्र के माध्यम से सूचित किया है कि पंजाब के सीमावर्ती इलाकों में बंधवा मजदूरी कराई जा रही है.

इस पत्र में लिखा गया है कि बीएसएफ ने बताया है यूपी बिहार के दूरदराज के इलाकों से लोगों को अच्छी तनख्वाह देने के झूठे वादे पर लाया जाता है और उनसे बंधुआ मजदूरी करवाई जाती है.

बीएसएफ ने ऐसे 58 लोगों को मुक्त कराया है जिनको बंधुआ मजदूर बनाया गया था.

ये लोग यूपी बिहार के दूरदराज इलाकों से संबंध रखते है.

इस चिट्ठी में जो सबसे गंभीर आरोप है वह यह है कि जिन मजदूरों को बंधुआ बनाया गया था उनसे ज्यादा से ज्यादा काम लेने के लिए नशीले पदार्थ दिए जा रहे थे.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से कठोर कार्यवाही करने का आग्रह किया है.

मालूम हो कि भारत में बंधुआ मजदूरी कराना एक अपराध है.

भारत में बंधुआ मजदूरी को समाप्त करने के लिए 1976 में बंधुआ मजदूरी उन्मूलन अधिनियम बनाया गया था.

इस अधिनियम के अनुसार बंधुआ मजदूरी करवाना एक संगेज्ञ और दंडकारी अपराध है.

इसके लिए 3 वर्ष की सजा और 2000रू के जुर्माने का प्रावधान बंधुआ मजदूरी अधिनियम की धारा 16 में किया गया है.

इस प्रकरण के बाद पंजाब सरकार की मुसीबतें बढ़ सकती है क्योंकि अगले ही साल पंजाब में चुनाव होने वाले हैं.

कोरोना पर उद्धव ने चेताया तो वहीं दिल्ली में फिर से स्कूल बंद

देश में कोरोनावायरस की रफ्तार प्रतिदिन बढ़ती जा रही है शुक्रवार को अक्टूबर 2020 के बाद सबसे ज्यादा मामले आए.

अगर आंकड़ों की बात करें तो शुक्रवार को 88 हजार से भी ज्यादा कोरोनावायरस मरीज मिले.

इनमें सबसे ज्यादा 47913 मामले महाराष्ट्र में दर्ज किए गए वहीं दिल्ली में भी 3000 से ज्यादा मामले आए.

बढ़ती संख्या को देखते हुए महाराष्ट्र और दिल्ली में लॉक डाउन की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता.अगर बात महाराष्ट्र की करें तो मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल साफ-साफ और बड़े ही सख्त अंदाज में कहा कि अगर मामले 1 से 2 दिन में नियंत्रण में नहीं आते और लोग अपननी आदतों को नहीं बदलते तो lockdown पर फिर से विचार करना पड़ सकता है.

वहीं दिल्ली सरकार ने भी कल कोरोना के बढ़ते मामले की गंभीरता को देखते हुए कैबिनेट की मीटिंग बुलाई थी. जिसमें कहा गया कि दिल्ली में अभी लॉकडाउन का विचार नहीं है अगर ऐसा होता है तो पहले जनता से राय ली जाएगी.

मालूम हो कि दिल्ली में नए सत्र की पढ़ाई अगले आदेश मिलने तक ऑनलाइन कराई जाएगी यानी स्कूलों में छात्रों का जाना बंद रहेगा. बताते चलें कि कल दिल्ली में कोरोना महामारी से 14 लोगों की मौत हो गई थी वही पूरे देश में 713 लोगों की मौत हुई है.