Drugs-on-Cruse-Case: NCB जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को गिरफ्तारी से राहत, गिरफ्तारी से बचने के लिए गए थे मुंबई हाई कोर्ट, वहीं मुंबई पुलिस ने आर्यन खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी(Kiran Gosavi) को किया गिरफ्तार

Drugs-on-Cruse-Case के जांच अधिकारी NCB जोनल हेड समीर वानखेडे(Sameer Wankhede) ने अपनी गिरफ्तारी की आशंका को देखते हुए मुंबई हाई कोर्ट(Mumbai HC) का रुख किया था. मुंबई हाई कोर्ट में महाराष्ट्र सरकार के वकील  ने  समीर वानखेड़े की गिरफ्तारी को लेकर अहम बात कही है.

IMG 20211028 162350
NCB जोनल हेड समीर वानखेडे इमेज सोर्स टि्वटर

महाराष्ट्र सरकार के वकील ने मुंबई हाई कोर्ट में समीर वानखेड़े की गिरफ्तारी को लेकर एक हलफनामा दायर किया है. जिसमें कहा गया है कि समीर वानखेड़े की गिरफ्तारी अचानक नहीं की जाएगी.

हाई कोर्ट में महाराष्ट्र सरकार के वकील द्वारा कहा गया कि उनकी गिरफ्तारी अगर की जाएगी तो उन्हें गिरफ्तारी से 72 घंटा पहले यानी 3 दिन पहले सूचना दी जाएगी.

सरकार के इस हलफनामे के बाद मुंबई हाई कोर्ट ने वानखेड़े द्वारा दायर याचिका को डिस्पोज कर दिया. मालूम हो कि मुंबई पुलिस समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों की जांच कर रही है.

समीर वानखेड़े पर आर्यन खान ड्रग्स मामले में भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं. वैसे तो समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों की जांच करने के लिए एनसीबी का एक जांच दल कल दिल्ली से मुंबई पहुंचा था.

दिल्ली से मुंबई पहुंचे जांच दल ने कल समीर वानखेडे से भी पूछताछ की थी. यह एक लंबी पूछताछ थी जो कि लगभग 4 घंटे से भी ज्यादा चली थी. इस पूछताछ में समीर वानखेड़े के बयान को रिकॉर्ड किया गया था. इसकी सूचना मीडिया से एनसीबी DDG ज्ञानेश्वर सिंह ने दी थी.

कल NCB DDG ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा था कि हम यहां हर पक्ष को जानने और समझने आए हैं. ताकि मामले की निष्पक्ष जांच हो सके. एनसीबी अधिकारी समीर वानखेडे पर आरोप लगाने वाले स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सेल कल जांच दल के सामने अपना बयान रिकार्ड कराने उपस्थित नहीं हुए थे.

प्रभाकर सेल की अनुपस्थिति के बारे में ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा कि हम यहां प्रभाकर सेल द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करने आए थे. लेकिन वह अपना बयान दर्ज कराने के लिए उपस्थित नहीं हुए.

ज्ञानेश्वर सिंह ने मीडिया के माध्यम से कहा था की प्रभाकर सेल जहां भी हो वह जल्द से जल्द एनसीबी के जांच दल के पास आएं और अपना बयान रिकॉर्ड कराएं.

मालूम हो कि प्रभाकर सेल आर्यन खान मामले में एक स्वतंत्र गवाह के रूप में हैं. लेकिन NCB के स्वतंत्र गवाह होने के बाद भी प्रभाकर सेल ने जांच अधिकारी समीर वानखेडे को ही आर्यन खान मामले में शक के दायरे में ला दिया.

प्रभाकर सेल ने यह आरोप लगाया है कि आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ की डील होने वाली थी जिसे की 18 करोड़ पर सेटल किया गया.

इस डील में प्रमुख भूमिका प्रभाकर सेल के अनुसार किरण गोसावी की है. प्रभाकर सेल ने कहा कि उन्होंने अपने कानों से सुना है कि किरण गोस्वामी ने शाहरुख खान के मैनेजर से पैसे के लेनदेन संबंधित बातचीत की थी.

प्रभाकर सेल ने यह भी कहा था कि 18 करोड़ में डील सेटल होने के बाद आठ करोड़ रुपए एनसीबी के जोनल हेड समीर वानखेडे को दिए जाने की बात थी.

मालूम हो कि आज मुंबई पुलिस ने किरण गोसावी(Kiran Gosavi) को पूर्व में चल रहे एक मामले में आरोपी के रूप में गिरफ्तार कर लिया है.

प्रभाकर सेल के इन आरोपों के बाद मुंबई पुलिस ने NCB के जोनल हेड समीर वानखेडे के खिलाफ जांच शुरू कर दी है. इस जांच की तत्परता को देखते हुए हैं समीर वानखेडे को यह लगने लगा था कि हो सकता है कि उनकी गिरफ्तारी की जा सकती है.

इस अप्रत्याशित गिरफ्तारी से बचने के लिए ही समीर वानखेडे ने मुंबई हाईकोर्ट का रुख किया था. मालूम हो कि कल एनसीबी DDG ज्ञानेश्वर सिंह ने यह साफ कहा था कि समीर वानखेडे क्रूस ड्रग्स मामले की जांच करते रहेंगे. जब तक कि उनके खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिल जाता.

समीर वानखेडे पर पैसे के लेनदेन के अलावा और भी बहुत सारे आरोप लगे हैं. जिसमें कुछ आरोप व्यक्तिगत आरोप हैं. समीर वानखेडे पर यह आरोप लगा है कि समीर वानखेड़े ने IRS की नौकरी पाने के लिए आरक्षण का गलत तरीके से इस्तेमाल किया है.

समीर वानखेडे और उनकी पहली पत्नी शबाना कुरेशी चित्र नवाब मलिक ट्विटर हैंडल
समीर वानखेडे और उनकी पहली पत्नी शबाना कुरेशी चित्र नवाब मलिक ट्विटर हैंडल

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर आरोप लगाया है कि समीर वानखेडे ने अपना धर्म परिवर्तन किया था. 2006 में जब उनकी शादी शबाना कुरैशी से हुई थी तो उस समय वह मुस्लिम थे.

इस संबंध में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने एक निकाहनामा सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है. इस निकाहनामा को बनाने वाले काजी ने साफ कहा है कि समीर वानखेडे ने जब शबाना कुरैशी से शादी की थी उस समय वह मुस्लिम थे.

काजी का कहना है कि शरीयत के हिसाब से सिर्फ मुस्लिमों का ही निकाह हो सकता है और मैं गैर मुस्लिम का निकाह नहीं करा सकता.

वहीं इन आरोपों पर समीर वानखेड़े की दूसरी पत्नी ने कहा है कि समीर वानखेड़े ने कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया है. उनकी दूसरी पत्नी का कहना है कि यह सच है कि समीर ने निकाह किया था. लेकिन उन्होंने धर्म परिवर्तन नहीं किया है.

समीर वानखेडे पर लगने वाले आरोपों पर उनके पिता ने भी सफाई दी है. उनके पिता का कहना है कि हम लोग शुरू से ही दलित हिंदू हैं और हमारे परिवार में कभी किसी ने धर्म परिवर्तन नहीं किया है.

समीर वानखेडे के धर्म परिवर्तन से जुड़ा मामला अब और भी उलझता जा रहा है .एक टीवी इंटरव्यू में समीर वानखेड़े के ससुर और डॉक्टर शबाना कुरैशी के पिता ने समीर वानखेड़े पर यह आरोप लगाया है कि हम लोगों को यह पता नहीं था कि समीर वानखेड़े मुस्लिम नहीं है.

डॉक्टर शबाना कुरैशी के पिता का कहना है कि हमें तो यह टीवी और मीडिया के माध्यम से ही कल परसों पता चला है कि समीर वानखेडे मुस्लिम नहीं हैं. उनका कहना है कि समीर वानखेड़े की शादी में सारे मुस्लिम रीति-रिवाज अपनाए गए थे.