Delhi Weekend Curfew

Delhi Weekend Curfew में Gurunanak Jayanti को लेकर दी गई ढील

Delhi Weekend Curfew में Gurunanak Jayanti को देखते हुए दिल्ली सरकार द्वारा ढील दे दी गई है, वहीं बीते 24 घंटे में दिल्ली में Covid-19  केस 20 हजार के पार

देश में कोविड-19 की रफ्तार बेहद तेज हो गई है. बीते 24 घंटे में कोरोना के 1 लाख59 हजार 632 नए मरीज मिले हैं जबकि इस महामारी से बीते 24 घंटे में 327 लोगों की मौत हो गई.

वहीं देश की राजधानी दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोविड-19 के 20 हजार 181 नए मामले दर्ज किए गए. जबकि इस बीच इस विकराल महामारी से सात लोगों की मौत भी हो गई.

वर्तमान में दिल्ली में Covid-19 Positivity rate 19.6% है. जिस कारण शासन प्रशासन की चिंताएं बढ़ गई हैं. मालूम हो कि corona के कारण अभी तक दिल्ली में कुल 25 हजार 143 लोगों की जानें जा चुकी हैं.

कोविड-19 के  इन भयावह आंकड़ों को और वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए दिल्ली सरकार और DDMA ने राजधानी में पहले Night Curfew और फिर इस सप्ताह से weekend curfew जैसे सख्त फैसले लिए.

लेकिन चुकी आज गुरु नानक जयंती(Gurunanak Jayanti) है जिसमें सिख श्रद्धालुओं के साथ-साथ अन्य धर्मों के लोग भी गुरुद्वारे मत्था टेकने जाते हैं. इस कारण सरकार ने वीकेंड कर्फ्यू में आज कुछ ढील दे दी है. जिससे श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा जाकर मत्था टेकने में सहूलियत होगी.

लेकिन इसके साथ ही सरकारी निर्देश में यह भी कहा गया है कि इस दौरान कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पूरा पालन करना होगा मास्क पहनना अनिवार्य है.

ढील को लेकर राजनीति शुरू: दिल्ली में कोविड-19 महामारी के बढ़ते प्रभाव के बीच इस प्रकार की ढील को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई है. कुछ लोगों का कहना है कि यह फैसला सरकार ने पंजाब चुनाव को देखते हुए लिया है.

UP पंजाब सहित पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा: मालूम हो कि कल चुनाव आयोग ने UP पंजाब सहित पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है. चुनाव 7 चरणों में संपन्न कराए जाएंगे.

यूपी और मणिपुर को छोड़ पंजाब सहित अन्य तीन राज्यों में चुनाव एक चरण में संपन्न होगा. उत्तर प्रदेश में चुनाव 7 चरणों में संपन्न कराए जाएंगे तो वहीं मणिपुर में दो चरणों में.

चुनाव की शुरुआत 10 फरवरी से होगी और आखरी चरण का चुनाव 7 मार्च को संपन्न होगा जबकि पांचों राज्यों में मतगणना के लिए 10 मार्च की तिथि सुनिश्चित की गई है.

कल जैसे ही चुनाव की तिथियों की घोषणा हुई उसी समय से पांच चुनावी राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई, इस कारण जगह-जगह राजनीतिक पार्टियों के होर्डिंग और बैनर को प्रशासन द्वारा हटाया जा रहा है.

चुनाव आयोग ने corona महामारी को देखते हुए 15 जनवरी तक इन पांचों राज्यों में किसी भी प्रकार की रैली पदयात्रा साइकिल यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया है.

इस बार चुनाव आयोग ने एक और बड़ा परिवर्तन यह किया है .चुनाव के लिए 1 घंटे का अतिरिक्त समय दिया जाएगा ऐसा  corona महामारी के कारण किया गया है जिससे कि कोरोना प्रोटोकॉल का सही से पालन हो सके.

साथ ही चुनाव आयोग ने यह भी कहा कि चुनाव कराने वाले अधिकारियों और अन्य सभी  कर्मचारियों को corona की बूस्टर डोज भी दी जाएगी.

इससे पहले मीडिया कुछ  रिपोर्ट्स में ऐसी बातें आ रही थी कि चुनाव आयोग ऐसा निर्णय ले सकता है कि मतदान करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को मतदान करने की अनुमति तभी दी जाएगी जब उसे corona का दोनों टीका लगा होगा.

लेकिन चुनाव आयोग ने कल हुए प्रेस कांफ्रेंस में इसके बारे में कुछ भी नहीं कहा. चुनाव आयोग ने यह जरुर कहा कि जो व्यक्ति corona से संक्रमित होंगे उनके लिए भी मतदान में भाग लेने की विशेष व्यवस्था की जाएगी.

80 साल से ऊपर के बुजुर्ग, corona संक्रमित, विकलांग और अस्वस्थ व्यक्तियों के लिए घर से ही वोटिंग करने की सुविधा भी दी जाएगी. मालूम हो कि चुनाव आयोग द्वारा यह कोई पहला प्रयोग नहीं है. इससे पहले झारखंड और बिहार में भी ऐसा प्रयोग किया जा चुका है.  एक बात और इस बार चुनाव में प्रत्याशियों द्वारा खर्च की जा रही रकम की सीमा भी बढ़ा दी गई है.