The Bharat Bandhu

कैप्टन अमरिंदर सिंह(Captain Amarinder Singh) और अमित शाह(Amit Shah) की मुलाकात, सरकार में शामिल होने की अटकलें और कपिल सिब्बल(Kapil Sibbal) भी उतरे कैप्टन के समर्थन में

आज पंजाब के पूर्व CM कैप्टन अमरिंदर सिंह(Captain Amarinder Singh) ने एक बार फिर से सबको चौंका दिया. जहां कल उन्होंने कहा था कि वह किसी भी राजनीतिक व्यक्ति से दिल्ली में मिलने नहीं आए हैं. वहीं आज कैप्टन अमरिंदर सिंह गृह मंत्री अमित शाह(Amit Shah) से उनके आवास पर मिलने पहुंचे हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी अमित शाह के आवास पर उपस्थित रहेंगे.

कल कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि मैं दिल्ली सिर्फ दिल्ली में स्थित अपने सीएम हाउस को खाली करने आया हूं.

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावे किए जा रहे हैं कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को सरकार में एक बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है और वह जिम्मेदारी कृषि मंत्री(Agriculture Minister) की हो सकती है. अगर कैप्टन अमरिंदर सिंह को कृषि मंत्री बनाया जाता है तो इससे भाजपा को पंजाब चुनाव में फायदा हो सकता है.

खासकर जहां पंजाब में बीजेपी(BJP) चुनावी मैदान से बाहर हो चुकी थी लेकिन कैप्टन अगर बीजेपी में शामिल होते हैं तो फिर से बीजेपी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी(AAP) को कड़ा मुकाबला दे सकती है.

कैप्टन अमरिंदर सिंह और अमित शाह के बीच हमेशा से नजदीकीयां रही है. खासकर जब भी राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर bjp कोई मुद्दा उछालती है तो कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हमेशा आगे बढ़कर उस मुद्दे का समर्थन किया है. वैसे भी राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह और बीजेपी के बीच कभी भी कोई मतभेद देखने को नहीं मिला है.

बीजेपी ने पंजाब को बॉर्डर स्टेट कह कर कांग्रेस को घेरने की कोशिश की थी और उसी मुद्दे पर अमरिंदर सिंह ने भी कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को घेरा. भले ही इसके लिए अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर निशाना लगाया लेकिन उनका इशारा कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की तरफ था.

नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने को लेकर भी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तीखा प्रहार किया था और यहां तक कह दिया था कि सिद्धू स्थिर रहने वाले आदमी नहीं हैं और पंजाब जैसे बॉर्डर स्टेट के लिए सिद्धू के हाथ में नेतृत्व देना ठीक नहीं है.

कपिल सिब्बल(Kapil Sibbal) के भी बदले सुर, कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थन में उतरे!!

कपिल सिब्बल कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में आते हैं लेकिन अभी कांग्रेस में उनकी कम सुनी जा रही है. आज कपिल सिब्बल ने कांग्रेस नेतृत्व को लेकर फिर से सवाल खड़ा किया है और साथ ही    कैप्टन अमरिंदर सिंह के बगावती तेवर का भी इशारों इशारों में समर्थन किया है.

कपिल सिब्बल का कहना है कि कांग्रेस में जल्द से जल्द अध्यक्ष पद का चुनाव होना चाहिए क्योंकि अभी जो फैसले लिए जा रहे हैं, वह कौन ले रहा है इसका कोई पता नहीं है. मालूम हो कि कांग्रेस नेतृत्व को लेकर चिट्ठी लिखने वालों में कपिल सिब्बल का भी नाम शामिल था. चिट्ठी लिखे जाने के बाद से ही कपिल सिब्बल कांग्रेस में किनारे चल रहे हैं.

देश